मुंबई, भू-राजनीतिक मुद्दों के कारण बाजार में गिरावट जारी है। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 57.09 अंक लुढक़कर 29,365.30 के स्तर पर बंद हुआ। जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का 50 शेयरों पर आधारित प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 17.00 अंक लुढक़कर 9,119.40 के स्तर पर बंद हुआ। यह लगातार तीसरा कारोबारी सत्र है जब बाजार में गिरावट आई। हालांकि, आज शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में तेजी देखी गई। लेकिन बढ़ते कारोबार के साथ बाजार टूटता गया।

तीस शेयरों वाला सेंसेक्स 88.32 अंक या 0.30 प्रतिशत की गिरावट के साथ 29,373.13 अंक पर खुला। धातु, आईटी, रोजमर्रा के उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों, प्रौद्योगिकी तथा वाहन कंपनियों के शेयरों में मुख्य रूप से गिरावट देखी गई। इससे पहले, पिछले दो सत्रों में सेंसेक्स में 326.90 अंक की गिरावट आई थी। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 21.25 अंक या 0.23 प्रतिशत की गिरावट के साथ 9,129.55 अंक पर खुला। सीरिया, अफगानिस्तान और कोरियाई प्रायद्वीप में भू-राजनीतिक तनाव से एशिया के अन्य बाजारों हांगकांग, जापान तथा शंघाई कंपोजिट सूचकांक में भी कमजोर रूख रहा।

आयातकों की डॉलर मांग बढऩे और घरेलू शेयर बाजार में कमजोर रख के बीच विदेशी कोषों द्वारा निकासी बढ़ाए जाने से अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार फारेक्स में आज शरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया तीन पैसे टूटकर 64.44 रुपए प्रति डॉलर पर आ गया। फारेक्स बाजार के विश्लेषकों ने बताया कि हालांकि अन्य वैश्विक मुद्राओं की तुलना में डॉलर के कमजोर होने से रपये में ज्यादा गिरावट नहीं आई। इससे पिछले कारोबारी सत्र के दौरान निर्यातकों की ओर से डॉलर बिकवाली बढऩे के कारण डॉलर की तुलना में रुपया 26 पैसे मजबूत होकर 64.41 रुपए प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।