मुंबई, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरूवार को महाराष्ट्र के अलीबाग में शराब कारोबारी विजय माल्या के 'नियंत्रण' वाले एक फार्म हाउस को उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग आरोपों की जांच के सिलसिले में जब्त कर लिया। ईडी ने पिछले सितंबर में समुद्री किनारे के पास 17 एकड़ में फैले इस फार्म हाउस को प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के प्रावधानों के तहत अस्थाई रुप से जब्त किया था। प्रवर्तन निदेशालय ने अप्रैल में वहां रह रहे लोगों को जगह खाली करने का आदेश दिया था। ईडी ने एक बयान में कहा कि यह संपत्ति मांड्वा फार्म्स प्रा. लि. की है जिस पर माल्या का नियंत्रण है।

ईडी के मुंबई कार्यालय की एक टीम ने गुरूवार को फार्म हाउस पर जब्ती संबंधी आदेश चिपकाया। महाराष्ट्र के रायगढ़ में अलीबाग की इस संपत्ति की पंजीकृत कीमत 25 करोड़ है जबकि बाजार मूल्य 100 करोड़ रुपए से ज्यादा है। इसमें कहा गया है कि मांड्वा फार्म्स प्रा.लि. ने अस्थाई जब्ती के ईडी के आदेश के खिलाफ अपीलीय प्राधिकरण में अपील की थी। प्राधिकरण ने दो दिन पहले ही आवेदन को खारिज कर दिया था। ईडी इस समय माल्या के विरुद्ध 900 करोड़ रुपये के आईडीबीआई बैंक डिफाल्ट मामले की जांच कर रहा है जिसमें आरोप है कि माल्या ने इस मामले में मनी लॉन्ड्रिंग की है। इस समय माल्या लंदन में रह रहा है और हाल ही में गोआ में उसकी विला को बैंकों को बेचने में सफलता मिल गई है। अब बैंकों की नजर माल्या के विले पार्ले ईस्ट स्थित किंगफिशर ऑफिस को बेचने की है।